ये मतलब की दुनिया है प्यारे
तू चल अपने दिल को सम्भाले
तेरे अपने हीं तोड़ेँगे दिल को
चाहे कितना भी ख़ुद को बचा ले
ये मतलब की दुनिया है प्यारे
तू चल अपने दिल को सम्भाले

आजकल वक़्त एेसा है आया
साथ छोड़े है ख़ुद का भी साया
सारे रिश्ते हैं मतलब के रिश्ते
क्या अपना है क्या है पराया
हमसफ़र तेरा होगा न कोई
राह तनहा तू ख़ुद हीं बना ले
ये मतलब की दुनिया है प्यारे
तू चल अपने दिल को सम्भाले

जिसपे जितना भरोसा करेगा
तेरा दिल भी उसी से दुखेगा
खुश है तू सबकी खुशी पर
तेरे ग़म पर ज़माना हँसेगा
दोस्त भी हैं बनाते बहाने
दोस्ती के भी रँग हैं निराले
ये मतलब की दुनिया है प्यारे
तू चल अपने दिल को सम्भाले

कोई मन्दिर की ख़ातिर लड़े है
कोई मस्जिद पे दँगा करे है
जब है राम वही जो ख़ुदा है
क्युँ लहू आदमी का बहे है
हैं सियासत की चालेँ गज़ब की
चाहे कोई बिसात बिछा ले
ये मतलब की दुनिया है प्यारे
तू चल अपने दिल को सम्भाले

याद रखना कि जब तू मरेगा
सब से प्यारे के हाथों जलेगा
तू भले हो सिकँदर जहाँ में
पर अकेला हीं जग से चलेगा
फिर किये जा भलाई जहाँ में
बस दुआयें सभी की कमा ले
ये मतलब की दुनिया है प्यारे
तू चल अपने दिल को सम्भाले
तेरे अपने हीं दिल को तोड़ेंगे
चाहे कितना भी ख़ुद को बचा ले
ये मतलब की दुनिया है प्यारे
तू चल अपने दिल को सम्भाले

raise
sharma.nishu@gmail.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *